कृषि अध्यादेशों को लेकर राज्यपाल से मिलेगा ‘आप’ का शिष्टमंडल

Advertisement
-किसान विरोधी कृषि अध्यादेशों के मुद्दे पर नंगे हुए कांग्रेस व बादलों के चेहरे

चंडीगढ़, 16 सितम्बर , 2020 (विश्ववार्ता):कृषि अध्यादेशों के मुद्दों पर आम आदमी पार्टी का शिष्टमंडल नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीम और उपनेता विपक्ष सरबजीत कौर माणूंके के नेतृत्व में पंजाब के राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर को मिलेगा। इसके संबंध में राज्यपाल से समय मांगा गया है।  पार्टी कार्यालय से जारी बयान में हरपाल सिंह चीमा ने कहा की यहां कृषि अध्यादेश पंजाब की आर्थिकता व किसानों के लिए बर्बादी का कारण बनेगी वहीं इन अध्यादेशों के नाम पर कांग्रेस और अकाली-भाजपा  किसानों और पंजाब के लोगों को गुमराह कर रहे है। उधर ‘आप’ विधायकों कुलवंत सिंह पंडोरी, जै सिंह रोड़ी व मीत हेयर ने भी कृषि अध्यादेशों के विषय पर बात करने के लिए पंजाब के राज्यपाल वी.पी. सिंह  बदनौर से मुलाकात का समय मांगा है। 

इस मौके हरपाल सिंह चीमा ने पार्टी कार्यालय से बयान जारी करते हुए बताया की इन कृषि अध्यादेशों से पंजाब का ही नहीं बल्कि समूह किसानों, मजदूरों, कृषि में इस्तेमाल होने वाले साधनों इत्यादि को भी भारी नुक्सान होगा। अगर भविष्य में यह अध्यादेश जारी होता है तो इसका पूरा फायदा कारपोरेट घरानो को होगा। इस ऑर्डिनेंस के अनुसार कॉर्पोरेट्स बड़े स्तर पर वस्तुओं का भण्डारण कर सकेंगे और वह वस्तुओं की कीमतों पर सवयं नियंत्रण कर सकेंगे और किसानों का इससे नुकसान होगा।  
हरपाल चीमा ने कहा की इस बिल को प्रदेश की कांग्रेस सरकार व शिरोमणि अकाली दल (बादल) की पार्टी पहले ही अपना समर्थन दे चुकी हैं और अब सिर्फ किसानों के आगे सिर्फ और सिर्फ झूठ बोल रही है। हरपाल चीम ने बताया की शिरोमणि अकाली दाल के अध्यक्ष सुखबीर बदल जो पिछले 3 माह से इस बिल के हक में बोल रहे थे। आज अचानक पार्लिमेंट में कहतें हैं की मैने कभी बिल पर ध्यान ही नहीं दिया। जो की सरा सर झूठ हैं।  पहले बीजेपी सरकार के सुर में सुर मिला कर बिल का समर्थन किया और जब किसानों ने दबाव डाला तो अपनी ही बात से पलट गए। सुखबीर के इस ब्यान से उनका दोगुलापन साफ जाहिर होता है। 
हरपाल चीमा ने आगे कहा की मुख्य मंत्री अमरिंदर सिंह भी कम दोगले नहीं है , पहले खुद ही हाई पवार कमेटी जिसमे अन्य राज्य भी शामिल थे, इस बिल को लेकर अपनी सहमति दी और अब जनता व किसानों के आगे झूठा दिखावा कर रहे हैं की वह कमेटी में शामिल नहीं थे। मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह अपने दोगलेपन से लोगो को गुमराह कर रहे हैं। आज जब किसानों के साथ न इंसाफी हो रही है कैप्टन कुछ नहीं कर रहे उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। चीमा ने कहा की वह कांग्रेस व शिअद दोनों को ही कृषि ऑर्डिनेंस मुद्दे पर जल्द ही उनका असली चेहरा नंगा कर लोगों को दिखा देंगे।  
हरपाल सिंह चीम ने आगे कहा की वह और सरबजीत कौर माणूंके कल अन्य विधायकों के साथ इस ऑर्डिनेंस के खिलाफ अपील करेंगे। उन्होंने कहा की इसके साथ ही वह मुख्य मंत्री से जनता को गुमराह करने के एवज में अपना इस्तीफा दें।