इंसानियत हुई तार तार, सगा भाई ही लुटता रहा इज्जत

218
Advertisement


चंडीगढ , 26 मई (विश्ववार्ता): जालंधर से एक ऐसा मामला सामने आया है जिससे पूरी मानव जाति को ही कलंकित कर दिया।
बेशर्मी व हैवानियत की सभी हदों को पार करते हुए अपने से 9 साल छोटी सगी बहन के साथ एक भाई कई साल तक बलात्कार करता रहा। प्राप्त जानकारी के अनुसार जालंधर की एक मासूम लडक़ी ने बताया जब उसकी आयु केवल 11 साल की थी। तब से उसका सगा भाई जो कि उससे 9 साल बड़ा है। उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। मौजूदा समय में लडक़ी की आयु लगभग 16 साल है और उसका भाई इस समय मलेशिया में रह रहा है। जब उसे पता चला कि उसका भाई मलेशिया से आ रहा है तो वह फिर डर गई कि जैसे ही उसका भाई विदेश से वापस आएगा एक बार फिर से वही काम शुरू हो जाएगा।
जब बचपन बचाओ मुहिम चंडीगढ़ की तरफ से एडवोकेट सिमरनजीत कौर गिल बच्ची को लेकर जालंधर के थाना सदर पहुंची
मामले की गंभीरता को देखते हुए इस मामले की लिखित शिकायत स्टेट चाइल्ड कमिशन में की गई। जिसके बाद स्टेट चाइल्ड कमीशन द्वारा पुलिस को सारे मामले से अवगत करवाते हुए एक टीम को जालंधर भेजा गया।
इस बारे मे एडवोकेट सिमरजीत कौर ने बताया स्टेट चाइल्ड कमिशन की तरफ से उनके पास एक मैसेज आया कि उक्त मामले में पुलिस द्वारा एफ आई आर दर्ज कर ली गई है और बच्ची को भी रेस्क्यू करके उसे चाइल्ड केयर में भेज दिया गया है। मगर सच्चाई यह है कि ना तो पुलिस प्रशासन द्वारा कोई एफ आई आर दर्ज की गई और ना ही बच्ची को अभी तक चाइल्ड केयर भेजा। एडवोकेट सिमरजीत कौर ने बताया नियमानुसार ऐसे मामलों में जब किसी भी बच्ची का रेस्क्यू ऑपरेशन किया जाता है तो पुलिस कर्मचारी सादी वर्दी में जाते हैं। मगर इस मामले में महिला पुलिस कर्मचारी बकायदा तौर पर वर्दी पहनकर बच्ची के घर पहुंची और बाद में उसे अपनी एक्टिवा पर बैठाकर थाने ले आई। बच्ची को सोमवार से थाने में ही रखा गया। जबकि कानूनन उसे तुरंत चाइल्ड केयर भेजा जाना अनिवार्य है और किसी भी सूरत में बच्ची को थाने नहीं लेकर जाया जा सकता। इस बारे मे जब एसएचओ से पूछा गया तो उन्होने कहा हमारे पास शिकायत आई थी हमने रिपोर्ट बनाकर सीनियर अधिकारियों के पास अगली कार्रवाई के लिए भेज दी है ।