🌷 *आज का विचार** 🌷

0
32

🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷 🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷

🌷 *आज का विचार** 🌷

लाख दलदल हो,
पाँव जमाए रखिए;

हाथ खाली ही सही,
ऊपर उठाये रखिए;

कौन कहता है छलनी में,
पानी रुक नहीं सकता?

बर्फ बनने तक,
हौंसला बनाये रखिए।

🙏🌹 सुप्रभात जी 🌹🙏 . 🙏💐 खुश रहे, स्वस्थ रहे, सुरक्षित रहे। 💐🙏